Tags

, , , , , ,

दश्त में जाता वो कारवाँ तो पुराना है
उन्हीं मदहोश लोगों के बीच मेरा भी ठिकाना है

फसानों की बस्ती में पलता मेरा भी एक फसाना है
नुमाइश-ए-आलम में अपना शामियाना रोज़ लगाना है

दो जोड़े कपड़े और दो निवाले ही कमाना है
रोज़मर्रा की रोज़ी तो सिर्फ़ जीने का बहाना है

फ़तह के ईनामों को मुझे तो बस सजाना है
ताज पर वैसे तो हर किसी का निशाना है

अफ़सोस की खुद को जीना यूँ सिखाना है
दरअसल अब ये जालसाज़ों का ज़माना है

————————————————

दश्त – desert                                                         कारवाँ – caravan
मदहोश – unmindful                                              फसाना – story / tale
बस्ती – a small town                                             नुमाइश-ए-आलम – the fair of this world
शामियाना – tent                                                    रोज़मर्रा की रोज़ी – daily wages
फ़तह – victory                                                       ईनामों – prizes and awards
ताज – crown                                                          जालसाज़ों – fake people

Advertisements