शेर

कभी कहीं ख़याल नहीं मिलते, तो कहीं दिल नहीं मिलता
कहीं माज़ी के तनाज़े हैं, तो कहीं मुस्तक़्बिल नहीं मिलता

ख़याल

मन की गहराइयों
में मख़्फ़ी
एक ख़याल
अक्सर मेरे ज़हन में
दस्तक दे जाता है
धीमी आवाज़ में
फुस-फुसाकर
मुझे याद दिलाता है
वही, जिसे सोच के
मैं घबरा जाता हूँ
कुछ बेकस, कुछ मायूस
हो जाता हूँ

मूँह फेरने की
कोशिश करता हूँ
मगर न चाह के
भी सोचता हूँ
सबसे कितना अलग हूँ
सबसे कितना जुदा
थोड़ा तो अजीब हूँ
थोड़ा सिरफिरा
कुछ बेहिसाब हूँ
और कुछ बेतुका
किसका हमनवां हूँ
मैं किसका हमनवां ?

परेशन होकर, बेबस होकर
ख़ुद पे कुछ
झुंझलाता हूँ
फिर एकदम ही
याद आती है
उस कमज़ात ख़याल
की गुस्ताख़ी

मैं उसे डाँटता हूँ
फटकारता हूँ
धमका के उसे
वापस भेज देता हूँ
वहीं, जहाँ से वो
बिन बुलाए मेहमान
की तरह मूँह उठाए
चला आया था

मैं अक्सर उसे
दरिया-ए-दिल में
धकेल देता हूँ
सोचता हूँ
इस बार तो ये डूब ही जाएगा..

———–

मख़्फ़ी – hidden                               ख़याल – a thought
ज़हन – mind                                    बेकस – helpless
मायूस – sad                                     सिरफिरा – mad
हमनवां – like-minded friend            कमज़ात – lowly
गुस्ताख़ी – fault                                 दरिया-ए-दिल – sea of the heart

ग़द्दार

ग़द्दार कह के
आज तू मुझ को
बदनाम कर ले
बाग़ी हूँ, ये
बोल कर मुझ को
तन्बीह कर ले
मेरे मुजरिम
होने का जा
बोहतान बाँध दे
मेरे ख़तरे से
जा सब को
आगाह कर दे

जा, कि आज तुझे
बहुत काम है
जा, कि आज तेरी
ज़िम्मेदारी बड़ी है

आज मुल्क के तमाम भूखे-नंगों
को तमाशा परोसना है
आज हुब्बुल वतनी की
मशाल जलानी है
फिर आतिश-ए-मशाल में
बेकसूरों को झोंकना है
आज मज़लूम को डराना है
और आलिम को धमकाना है

तेरे दोस्त आज तुझ पे
कितना नाज़ करेंगे !
तेरे मुरीद आज तुझ पे
कैसे जान छिड़केंगे !

तू वतन दोस्ती का
झूठा लबादा ओढ़े
उनके सामने खड़े होना
अपना सीना फक़्र से
फुलाए तक़रीर करना
मेरी ‘ग़द्दारी’ पर
नाराज़ होना, नारे देना

गर तेरा ज़मीर अब भी
कुछ साफ है
गर तेरा इरादा अब भी
कुछ पाक है
तो तू वहाँ खड़े
इक लम्हा तो
अपना माज़ी याद करेगा
अपनी मक्कारियाँ याद करेगा
अपने झूठ याद करेगा
अपनी ग़द्दरियाँ याद करेगा

————————

ग़द्दार – traitor                                            बाग़ी – rebel
तन्बीह कर – reprimand                             मुजरिम – criminal
बोहतान बाँध – false accusation                आगाह – warn
हुब्बुल वतनी – patriotism                           मशाल – torch
आतिश-ए-मशाल – flame of torch               मज़लूम – downtrodden
आलिम – learned man                              नाज़ – proud
लबादा – cloak                                            फक़्र – pride
तक़रीर करना – deliver a speech                ज़मीर – conscience
गर – if                                                       लम्हा – a moment
माज़ी – past                                                मक्कारियाँ – cunning and shrewd acts
ग़द्दरियाँ – treacherous acts

शेर

जब भी ख़ुद को बेचारगी की निगाह से देखा
तब हमेशा तुमको ही हाल-ए-कसूरवार पाया

ग़ज़ल

इस बात का एहसास तुमको कुछ कम था
तुम्हारे होने के बाद भी कुछ था, जो कम था

जो मिल गया उसकी थोड़ी बहुत ख़ुशी थी
लेकिन जो खो गया उसका बड़ा ग़म था

ओस जैसी उम्मीदें बस हो गयीं मुन्जमिद
वो ज़माना ही अजीब और मौसम कुछ नम था

सुनते हैं क़ुव्वत-ए-इश्क़ होती है बेइन्तेहा
मगर उस चाहत में क्या कहूँ कितना दम था

वैसे मेरे हिस्से में मुक़रर है थोड़ा तो इल्ज़ाम
कि मुहब्बत के होने का मुझको ही भरम था

——————————————————

एहसास – realization                                                ओस – dew drops
मुन्जमिद – frozen                                                     क़ुव्वत-ए-इश्क़ – power of love
बेइन्तेहा – limitless                                                   मुक़रर – allotted
इल्ज़ाम – blame                                                        भरम – illusion

बदनसीब ख़्वाहिश

आज नींद का दामन जो छोड़ा तो

ख़ुद को सर्द सहर की गोद में पाया,

मायूस दिल की इक ख़्वाहिश को

मरने का इंतेज़ार करते हुए पाया I

इस छोटे से अंधेर कमरे में

शायद इसका दम आज घुट ही जाए,

ताक़ में रखे चिराग़ की तरह

शायद इसकी लॉ भी बुझ ही जाए I

उम्मीदों को पालते पालते

खांचा तो कमज़ोर हो ही गया,

जिस बात का डर था इसको

मानो वो इस रोज़ हो ही गया I

दरीचे से बहार देखती आँखें

इक आख़री उम्मीद ढूंड रही हैं

बदक़िस्मत हैं लेकिन! इन्हें क्या पता

पोशीदा हवाएँ भी धूप ढूंड रही हैं I

शिकस्त का लबादा ओढ़े

ठिठुर रही है मेरी हसरत,

लगता है आज शाम को

धुन्द का कफ़न ओढेगी

बदनसीब ख़्वाहिश ….


सर्द सहर – cold chilly morning                              ताक़ – shelf

चिराग़ – lantern                                                     लॉ – flame
खांचा – frame / body                                             दरीचे – window
पोशीदा – invisible                                                  शिकस्त – defeat
लबादा  – cloak                                                       हसरत – unfulfilled desire
धुन्द – mist / fog                                                      कफ़न – funeral shroud

Create a website or blog at WordPress.com

Up ↑