इस बात का एहसास तुमको कुछ कम था
तुम्हारे होने के बाद भी कुछ था, जो कम था

जो मिल गया उसकी थोड़ी बहुत ख़ुशी थी
लेकिन जो खो गया उसका बड़ा ग़म था

ओस जैसी उम्मीदें बस हो गयीं मुन्जमिद
वो ज़माना ही अजीब और मौसम कुछ नम था

सुनते हैं क़ुव्वत-ए-इश्क़ होती है बेइन्तेहा
मगर उस चाहत में क्या कहूँ कितना दम था

वैसे मेरे हिस्से में मुक़रर है थोड़ा तो इल्ज़ाम
कि मुहब्बत के होने का मुझको ही भरम था

——————————————————

एहसास – realization                                                ओस – dew drops
मुन्जमिद – frozen                                                     क़ुव्वत-ए-इश्क़ – power of love
बेइन्तेहा – limitless                                                   मुक़रर – allotted
इल्ज़ाम – blame                                                        भरम – illusion

Advertisements