आज नींद का दामन जो छोड़ा तो

ख़ुद को सर्द सहर की गोद में पाया,

मायूस दिल की इक ख़्वाहिश को

मरने का इंतेज़ार करते हुए पाया I

इस छोटे से अंधेर कमरे में

शायद इसका दम आज घुट ही जाए,

ताक़ में रखे चिराग़ की तरह

शायद इसकी लॉ भी बुझ ही जाए I

उम्मीदों को पालते पालते

खांचा तो कमज़ोर हो ही गया,

जिस बात का डर था इसको

मानो वो इस रोज़ हो ही गया I

दरीचे से बहार देखती आँखें

इक आख़री उम्मीद ढूंड रही हैं

बदक़िस्मत हैं लेकिन! इन्हें क्या पता

पोशीदा हवाएँ भी धूप ढूंड रही हैं I

शिकस्त का लबादा ओढ़े

ठिठुर रही है मेरी हसरत,

लगता है आज शाम को

धुन्द का कफ़न ओढेगी

बदनसीब ख़्वाहिश ….


सर्द सहर – cold chilly morning                              ताक़ – shelf

चिराग़ – lantern                                                     लॉ – flame
खांचा – frame / body                                             दरीचे – window
पोशीदा – invisible                                                  शिकस्त – defeat
लबादा  – cloak                                                       हसरत – unfulfilled desire
धुन्द – mist / fog                                                      कफ़न – funeral shroud

Advertisements