जब भी ख़ुद को बेचारगी की निगाह से देखा
तब हमेशा तुमको ही हाल-ए-कसूरवार पाया

Advertisements