ग़द्दार कह के
आज तू मुझ को
बदनाम कर ले
बाग़ी हूँ, ये
बोल कर मुझ को
तन्बीह कर ले
मेरे मुजरिम
होने का जा
बोहतान बाँध दे
मेरे ख़तरे से
जा सब को
आगाह कर दे

जा, कि आज तुझे
बहुत काम है
जा, कि आज तेरी
ज़िम्मेदारी बड़ी है

आज मुल्क के तमाम भूखे-नंगों
को तमाशा परोसना है
आज हुब्बुल वतनी की
मशाल जलानी है
फिर आतिश-ए-मशाल में
बेकसूरों को झोंकना है
आज मज़लूम को डराना है
और आलिम को धमकाना है

तेरे दोस्त आज तुझ पे
कितना नाज़ करेंगे !
तेरे मुरीद आज तुझ पे
कैसे जान छिड़केंगे !

तू वतन दोस्ती का
झूठा लबादा ओढ़े
उनके सामने खड़े होना
अपना सीना फक़्र से
फुलाए तक़रीर करना
मेरी ‘ग़द्दारी’ पर
नाराज़ होना, नारे देना

गर तेरा ज़मीर अब भी
कुछ साफ है
गर तेरा इरादा अब भी
कुछ पाक है
तो तू वहाँ खड़े
इक लम्हा तो
अपना माज़ी याद करेगा
अपनी मक्कारियाँ याद करेगा
अपने झूठ याद करेगा
अपनी ग़द्दरियाँ याद करेगा

————————

ग़द्दार – traitor                                            बाग़ी – rebel
तन्बीह कर – reprimand                             मुजरिम – criminal
बोहतान बाँध – false accusation                आगाह – warn
हुब्बुल वतनी – patriotism                           मशाल – torch
आतिश-ए-मशाल – flame of torch               मज़लूम – downtrodden
आलिम – learned man                              नाज़ – proud
लबादा – cloak                                            फक़्र – pride
तक़रीर करना – deliver a speech                ज़मीर – conscience
गर – if                                                       लम्हा – a moment
माज़ी – past                                                मक्कारियाँ – cunning and shrewd acts
ग़द्दरियाँ – treacherous acts

Advertisements