कभी कहीं ख़याल नहीं मिलते, तो कहीं दिल नहीं मिलता
कहीं माज़ी के तनाज़े हैं, तो कहीं मुस्तक़्बिल नहीं मिलता

Advertisements