Jana

Tags

, , , , , ,

Small pieces of colored glass
A pair of trinkets
And postcards –
All coveted treasures of
Jana’s dreams.
Oh sweet Jana, little Jana
Holy cherub of soul pristine!
One amongst the swarm of angels,
Ricocheting between
The dusty alleys,
A jolly world at her playful feet
In sunny evening summer breeze.
Rosy child with rouge lips
Fragility of cotton candy
Coolness of popsicles
And hair like dark ebony.
What harm will this cherub inflict?
None,
One would say
For those soft curls don’t tell lies
Nor does sun lighting those eyes.
Her eyes –
A cradle of dreams
Those glossy dreams
Tiny dreams
Like dew drops
By night streams,
Yet untouched
By dirt and mud
Yet unnerved
By guns and blood.
Yet someday
The dirt will spatter
When the dew be trodden
By civilized men,
Yet someday
The guns will chatter
When the child be told off
By decorous men,
For, to men of honor
Jana is no different.
She’s as much a threat
As any other of her peculiar kind
An object of caution,
Shallow, unrefined.
A savage and a crude
In need of being renewed.
So she must vow her allegiance
And prove her worth
To undo the crime
Of her innocent birth.

Lies

Tags

, , , , , , ,

Lies, lies, lies
Dig around
You’ll find them, lies.
Fat dark lies
Wrapped in sheets of white,
Ugly truth
Painted to look right.

The pride of powerful
The sword of mighty
The bitter tales that
Burn many a city,
Yet they are sought
Yet consumed
By the very men whom
They consume,
Its a rat trap
Set on the rat brains
These lies.

The seeds of hatred
The seeds of discord
Sown so a few
Can reap a reward,
While the millions suffer
And the millions die
At the hands of those
Slick and sly,
Its a rat trap
Set on the rat brains
These lies.

The fodder of hungry
The food of plebeian
A child digs into
His portion of poison,
Though unaware of
Grave deception
Lulling in arms
Of sweet delusion,
Its a rat trap
Set on the rat brains
These lies.

The merchants of lies
May lure the eyes,
The traders of lies
May trick the eyes
But we got to
Rise
Rise
Rise above the guise
The trap
The rat trap
Set on our rat brains
These lies.

Molly

Tags

, , , , , , , , ,

There goes my head swimming away
Into the light waves of shining yellow,
Calm tranquility descends upon earth
Enveloping all worries in fuzzy mellow.
The breeze caresses my warm cheeks
And takes along a whirlwind of leaves;
Exasperated, I run and chase after
The elusive beauty like wretched thieves.
But the devious thing waltzes higher
Above to unveil a sight more majestic
– Sultry round moon lazes idly amid
Dark clouds like empress of ecliptic.
My weightless body now glides through,
Drawing in closer to the sound of music,
The ripples of happiness ignite my being
With some mysterious magical trick.
Oh I swear Divine Providence knows!
For He sends forth a stellar downpour,
Unleashing His wonder on fiery souls
And leaving all asking for nothing more.
The beaming faces flock together to
Dance and drench in rain of euphoria,
Turning themselves in to the charge
Of pulsating beats of electronic genre.
Off we sail away into the ocean of unity
– A distant sea with no bounds or ends,
This world is a beautiful place wherein
Friends are friends and foes are friends.

Through the Kaleidoscope

Tags

, , , , ,

Through the kaleidoscope,
Many a hue dance away.
A loop once set in motion goes
Round to end some day.
Black gives way to blue above
To white, to yellow, to pink
Regal crimson seals the dusk,
Black again after sun sink.
Light transcends the dark
And dark, the light,
As the day rolls over
To give in to night.

On warped time scale
Elapse little views so vivid
Of joys and of beauty,
Of times insipid.
Clouds waft through
The wide blue yonder,
Forever passing
Into the Neverland.
Shooting stars bless
The heavens above
With a sterling radiance
Of that of sand.

Now comes the parched land
With earth cracked asunder,
Now comes a drizzle along
With wild roaring thunder.
Winds change all along
And so do the landscapes
– Cherry blossom greetings
And luscious green grapes.
The loop leaps forward
To return to the old,
So comes the end
Of a year foretold.

Through the kaleidoscope,
A full circle thus closes.
The end is the start,
Its how one chooses.

शेर

कभी कहीं ख़याल नहीं मिलते, तो कहीं दिल नहीं मिलता
कहीं माज़ी के तनाज़े हैं, तो कहीं मुस्तक़्बिल नहीं मिलता

ख़याल

मन की गहराइयों
में मख़्फ़ी
एक ख़याल
अक्सर मेरे ज़हन में
दस्तक दे जाता है
धीमी आवाज़ में
फुस-फुसाकर
मुझे याद दिलाता है
वही, जिसे सोच के
मैं घबरा जाता हूँ
कुछ बेकस, कुछ मायूस
हो जाता हूँ

मूँह फेरने की
कोशिश करता हूँ
मगर न चाह के
भी सोचता हूँ
सबसे कितना अलग हूँ
सबसे कितना जुदा
थोड़ा तो अजीब हूँ
थोड़ा सिरफिरा
कुछ बेहिसाब हूँ
और कुछ बेतुका
किसका हमनवां हूँ
मैं किसका हमनवां ?

परेशन होकर, बेबस होकर
ख़ुद पे कुछ
झुंझलाता हूँ
फिर एकदम ही
याद आती है
उस कमज़ात ख़याल
की गुस्ताख़ी

मैं उसे डाँटता हूँ
फटकारता हूँ
धमका के उसे
वापस भेज देता हूँ
वहीं, जहाँ से वो
बिन बुलाए मेहमान
की तरह मूँह उठाए
चला आया था

मैं अक्सर उसे
दरिया-ए-दिल में
धकेल देता हूँ
सोचता हूँ
इस बार तो ये डूब ही जाएगा..

———–

मख़्फ़ी – hidden                               ख़याल – a thought
ज़हन – mind                                    बेकस – helpless
मायूस – sad                                     सिरफिरा – mad
हमनवां – like-minded friend            कमज़ात – lowly
गुस्ताख़ी – fault                                 दरिया-ए-दिल – sea of the heart

ग़द्दार

ग़द्दार कह के
आज तू मुझ को
बदनाम कर ले
बाग़ी हूँ, ये
बोल कर मुझ को
तन्बीह कर ले
मेरे मुजरिम
होने का जा
बोहतान बाँध दे
मेरे ख़तरे से
जा सब को
आगाह कर दे

जा, कि आज तुझे
बहुत काम है
जा, कि आज तेरी
ज़िम्मेदारी बड़ी है

आज मुल्क के तमाम भूखे-नंगों
को तमाशा परोसना है
आज हुब्बुल वतनी की
मशाल जलानी है
फिर आतिश-ए-मशाल में
बेकसूरों को झोंकना है
आज मज़लूम को डराना है
और आलिम को धमकाना है

तेरे दोस्त आज तुझ पे
कितना नाज़ करेंगे !
तेरे मुरीद आज तुझ पे
कैसे जान छिड़केंगे !

तू वतन दोस्ती का
झूठा लबादा ओढ़े
उनके सामने खड़े होना
अपना सीना फक़्र से
फुलाए तक़रीर करना
मेरी ‘ग़द्दारी’ पर
नाराज़ होना, नारे देना

गर तेरा ज़मीर अब भी
कुछ साफ है
गर तेरा इरादा अब भी
कुछ पाक है
तो तू वहाँ खड़े
इक लम्हा तो
अपना माज़ी याद करेगा
अपनी मक्कारियाँ याद करेगा
अपने झूठ याद करेगा
अपनी ग़द्दरियाँ याद करेगा

————————

ग़द्दार – traitor                                            बाग़ी – rebel
तन्बीह कर – reprimand                             मुजरिम – criminal
बोहतान बाँध – false accusation                आगाह – warn
हुब्बुल वतनी – patriotism                           मशाल – torch
आतिश-ए-मशाल – flame of torch               मज़लूम – downtrodden
आलिम – learned man                              नाज़ – proud
लबादा – cloak                                            फक़्र – pride
तक़रीर करना – deliver a speech                ज़मीर – conscience
गर – if                                                       लम्हा – a moment
माज़ी – past                                                मक्कारियाँ – cunning and shrewd acts
ग़द्दरियाँ – treacherous acts

ग़ज़ल

इस बात का एहसास तुमको कुछ कम था
तुम्हारे होने के बाद भी कुछ था, जो कम था

जो मिल गया उसकी थोड़ी बहुत ख़ुशी थी
लेकिन जो खो गया उसका बड़ा ग़म था

ओस जैसी उम्मीदें बस हो गयीं मुन्जमिद
वो ज़माना ही अजीब और मौसम कुछ नम था

सुनते हैं क़ुव्वत-ए-इश्क़ होती है बेइन्तेहा
मगर उस चाहत में क्या कहूँ कितना दम था

वैसे मेरे हिस्से में मुक़रर है थोड़ा तो इल्ज़ाम
कि मुहब्बत के होने का मुझको ही भरम था

——————————————————

एहसास – realization                                                ओस – dew drops
मुन्जमिद – frozen                                                     क़ुव्वत-ए-इश्क़ – power of love
बेइन्तेहा – limitless                                                   मुक़रर – allotted
इल्ज़ाम – blame                                                        भरम – illusion

बदनसीब ख़्वाहिश

आज नींद का दामन जो छोड़ा तो

ख़ुद को सर्द सहर की गोद में पाया,

मायूस दिल की इक ख़्वाहिश को

मरने का इंतेज़ार करते हुए पाया I

इस छोटे से अंधेर कमरे में

शायद इसका दम आज घुट ही जाए,

ताक़ में रखे चिराग़ की तरह

शायद इसकी लॉ भी बुझ ही जाए I

उम्मीदों को पालते पालते

खांचा तो कमज़ोर हो ही गया,

जिस बात का डर था इसको

मानो वो इस रोज़ हो ही गया I

दरीचे से बहार देखती आँखें

इक आख़री उम्मीद ढूंड रही हैं

बदक़िस्मत हैं लेकिन! इन्हें क्या पता

पोशीदा हवाएँ भी धूप ढूंड रही हैं I

शिकस्त का लबादा ओढ़े

ठिठुर रही है मेरी हसरत,

लगता है आज शाम को

धुन्द का कफ़न ओढेगी

बदनसीब ख़्वाहिश ….


सर्द सहर – cold chilly morning                              ताक़ – shelf

चिराग़ – lantern                                                     लॉ – flame
खांचा – frame / body                                             दरीचे – window
पोशीदा – invisible                                                  शिकस्त – defeat
लबादा  – cloak                                                       हसरत – unfulfilled desire
धुन्द – mist / fog                                                      कफ़न – funeral shroud